Class 8 Hindi Grammar Chapter 9 सर्वनाम

Class 8 Hindi Grammar Chapter 9 सर्वनाम (Sarvnam). All the contents of 8th Hindi Vyakaran is updated for CBSE as well as State Boards for academic session 2021-2022.

Practice here with types and definition of सर्वनाम with suitable examples. These contents provide a handful help to students about Sarvnam and its kinds. There is no charge to use these contents on Tiwari Academy website.




कक्षा 8 हिन्दी व्याकरण पाठ 9 सर्वनाम

कक्षा: 8 हिन्दी व्याकरण
अध्याय: 9 सर्वनाम

सर्वनाम किसे कहते हैं?

संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है, उन्हें सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं, तुम, वह, हम, आप, यह, जो, कोई, कुछ, तुम्हारा, मेरा, उसका, जिसका आदि। सर्वनाम शब्द का शाब्दिक अर्थ है- सर्वनाम अर्थात् सबका नाम। ये शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त किए जाते हैं। ये शब्द सभी के लिए प्रयोग किए जा सकते हैं। इनका प्रयोग करने से भाषा सुंदर और स्पष्ट हो जाती है। सर्वनाम का मुख्य कार्य वाक्यों में बार-बार संज्ञाओं की पुनरावृत्ति न होने देना है। एक ही सर्वनाम शब्द अलग-अलग व्यक्तियों या प्राणियों के लिए बोला या लिखा जा सकता है। जैसे-
(क) अमन और उसकी बहन मुंबई गए हैं।
(ख) कविता ने मुझे उपहार दिया।
(ग) प्रिती तुम्हारे पास पढ़ने आ रही है।
इन वाक्यों में उसकी, मुझे, तुम्हारे सर्वनाम हैं। उपर्युक्त उदाहरणों से निम्न बातें स्पष्ट होती हैं:

    • सर्वनाम शब्दों का संज्ञा के स्थान पर प्रयोग होता है।
    • सर्वनाम के प्रयोग से पूर्व कम से कम एक बार उस संज्ञा का प्रयोग आवश्यक है।
    • संज्ञा शब्द विकारी शब्द होते हैं।




सर्वनाम के भेद

सर्वनाम के छह भेद हैं:

    • 1. पुरुषवाचक सर्वनाम
    • 2. निश्चयवाचक सर्वनाम
    • 3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
    • 4. प्रश्नवाचक सर्वनाम
    • 5. संबंधवाचक सर्वनाम
    • 6. निजवाचक सर्वनाम
पुरुषवाचक सर्वनाम

बोलने वाला अपने लिए, सुनने वाले के लिए तथा किसी अन्य व्यक्ति के लिए जिन सर्वनामों शब्दों का प्रयोग करता है, उन्हें पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे:

    • (क) नीति ने मुझसे कहा कि वह अब ठीक है।
    • (ख) सन्नी ने कहा, मैं आज तुम्हें अवश्य मिलूँगा।

इन वाक्यों में “मैं”, “मुझसे” कहने वाले के लिए “तुम्हें” सुनने वाले के लिए, “वह” किसी अन्य व्यक्ति के लिए प्रयोग किया गया है। अतः मैं, तुम्हें, मुझसे और वह पुरुषवाचक सर्वनाम हैं।

पुरुषवाचक सर्वनाम के भेद
    • (क) उत्तम पुरुषवाचक
    • (ख) मध्यम पुरुषवाचक
    • (ग) अन्य पुरुषवाचक




उत्तम पुरुषवाचक

बोलने वाला या लिखने वाला अपने नाम के स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग करता है, उन्हें उत्तम पुरुष कहा जाता है। जैसे- मैं, मैंने, मेरा, हम, हमने, हमारा आदि। जैसे:

    • (क) मैंने खाना खा लिया।
    • (ख) मैं खाना खा रहा हूँ।
मध्यम पुरुषवाचक

ऐसे सर्वनाम शब्द जो बोलने वाले के लिए प्रयोग में लाए जाते हैं, मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। जैसे- तुम, तुम्हारा, तू, आपका आदि।

    • (क) तुम पढ़ लो, फिर चलेंगे।
    • (ख) तुम्हारे पिताजी आ रहे हैं। ।
अन्य पुरुषवाचक

बोलने वाला जिन सर्वनामों का प्रयोग अन्य व्यक्तियों के लिए करता है, उन्हें अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- वह, वे, उसने, उन्होंने, इन्होंने आदि।

    • (क) यह रमेश का भाई है।
    • (ख) वह तो अब तक चला गया होगा।




निश्चयवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनामों से निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध हो, उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-

    • (क) यह आयुष का घर है।
    • (ख) यह मेरी पुस्तक है।
अनिश्चयवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों से किसी निश्चित वस्तु एवं व्यक्ति का बोध नहीं होता, उन शब्दों को अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-

    • (क) कोई गा रहा है।
    • (ख) वह कुछ लाया है।

दिए गए वाक्यों में किसी, कोई, कुछ शब्दों से किसी वस्तु या व्यक्ति के विषय में निश्चित रूप से पता नहीं चलता। इसलिए ये अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहलाते हैं।

संबंधवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम का प्रयोग वाक्य के दूसरे सर्वनाम शब्द के लिए किया जाता है, उन्हें संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-

    • (क) जिसने भलाई का कार्य किया है, उसे पुरस्कार मिलेगा।
    • (ख) जिसकी लाठी उसकी भैंस।

इन वाक्यों में जिसकी-उसे, जिसकी उसकी, जो-वह शब्दों से दो सर्वनामों के संबंधों का पता चलता है इसलिए ये संबंधवाचक सर्वनाम हैं




प्रश्नवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग प्रश्न पूछने अथवा किसी वस्तु को जानने के लिए किया जाता है, प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। जैसे-

    • (क) वह किसकी किताब है?
    • (ख) पिताजी ने क्या कहा?

इन वाक्यों में किसकी, क्या, कौन शब्द प्रश्न पूछने के काम आए हैं। इसलिए ये प्रश्नवाचक सर्वनाम हैं।

निजवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनामों का प्रयोग अपनेपन का बोध कराने के लिए किया जाता है, उन्हें निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-

    • (क) मैं अपना काम स्वयं कर लूँगा।
    • (ख) वह अपना कार्य कर रहा है।

इन वाक्यों में “अपने आप” के लिए स्वयं, अपना शब्द प्रयोग में आए हैं। ये निजवाचक सर्वनाम हैं।

सर्वनामों की रूप-रचना

सर्वनाम के केवल सात कारकों में ही रूप चलते हैं। सर्वनामों का संबोधन नहीं होता है। क्रम से सभी सर्वनामों के रूप भिन्न हैं।

उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम “मैं”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता मैं, मैंने हम, हमने
कर्ता मैं, मैंने हम, हमने
करण मुझसे, मेरे द्वारा हमसे, हमारे द्वारा
संप्रदान मेरे लिए, मुझको हमारे लिए, हमको
अपादान मुझसे (पृथक्) हमसे (पृथक्)
संबंध मेरा, मेरे, मेरी हमारा, हमारे, हमारी
अधिकरण मुझ में, मुझ पर हम में, हम पर



मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम “तू”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता तू, तूने तुम, तुमने
कर्म तुझे, तुझको तुम्हें, तुमको
करण तुझसे, तेरे द्वारातुम से, तुम्हारे द्वारा
संप्रदान तेरे लिए, तुझकोतुम्हारे लिए, तुमको
अपादान तुझसे (पृथक्) तुम से (पृथक्)
संबंध तेरा, तेरे, तेरी तुम्हारा, तुम्हारे, तुम्हारी
अधिकरण तुझमें, तुझ पर तुममें, तुम पर
अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम “वह”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता वह, उसने वे, उन्होंने
कर्म उसे, उसको उन्हें, उनको
करण उससे, उसके द्वारा उनसे, उनके द्वारा
संप्रदान उसके लिए, उसको उनके लिए, उनको
अपादान उससे (पृथक्) उनसे (पृथक्)
संबंध उसका, उसके, उसकी उनका, उनके, उनकी
अधिकरण उसमें, उस पर उनमें, उन पर



निश्चयवाचक सर्वनाम “यह”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता यह, इसने ये, इन्होंने
कर्म इसे, इसको इन्हें, इनको
करण इसके इनसे
संप्रदान इसको, इसके लिए, इनको, इनके लिए
अपादान इससे (पृथक्) इनसे (पृथक्)
संबंध इसका, इसके, इसकी इनका, इनके, इनकी
अधिकरण इसमें, इस पर इनमें, इन पर
अनिश्चयवाचक सर्वनाम “कोई”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कोई, किसने कोई, किन्हीं से
कर्म किसको किन्हीं को
करण किससे, किसके द्वारा किन्हीं से, किन्हीं के द्वारा
संप्रदान किसको, किसके लिए किन्हीं को, किन्हीं के लिए
अपादान किससे (पृथक्) किन्हीं से (पृथक्)
संबंध किसका, किसके, किसकी किन्हीं का, किन्हीं के, किन्हीं की
अधिकरण किसमें, किस परकिन में, किन्हीं पर
प्रश्नवाचक सर्वनाम “कौन”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कौन, किसने कौन, किन्होंने
कर्म किसको किन्ही को
करण किससे, किसके द्वारा किनसे, किनके द्वारा
संप्रदान किसको, किसके लिए किनको, किनके लिए
अपादान किससे (पृथक्) किनसे (पृथक्)
संबंध किसका, किसके, किसकीकिनका, किनके, किनकी
अधिकरण किसमें, किस पर किनमें, किन पर

संबंधबोधक सर्वनाम “जो”
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता जो, जिसने जो, जिन्होंने
कर्म जिसे, जिसको जिन्हें, जिनको
करण जिससे जिनसे
संप्रदान जिसके लिए, जिसको जिनके लिए, जिनको
अपादान जिससे (पृथक्) जिनसे (पृथक्)
संबंध जिसका, जिसके, जिसकी जिनका, जिनके, जिनकी
अधिकरण जिसमें, जिस पर जिनमें, जिन पर
Class 8 Hindi Grammar Chapter 9 सर्वनाम
Class 8 Hindi Grammar Chapter 9
Class 8 Hindi Grammar Chapter 9 Sarvnam
सर्वनाम
Class 8 Hindi Vyakaran Chapter 9 सर्वनाम