NCERT Solutions for Class 5 Hindi

NCERT Solutions for Class 5 Hindi Rimjhim in PDF file format free to download updated for academic session 2021-2022. All the questions are solved in simplified language so that students of standard 5 can understand easily.

No login or password is required to access the contents.

Class 5 Hindi Rimjhim Book Question Answers

कक्षा: 5हिंदी
किताब:रिमझिम
सामाग्री:NCERT के अभ्यास के प्रश्न उत्तर

Class 5 Hindi All Chapters




Chapters of Class 5 Hindi Rimjhim – 5

1. राख की रस्सी (लोककथा)
2. फ़सलों के त्यौहार (लेख)
3. खिलौनेवाला (कविता)
4. नन्हा फनकार (कहानी)
5. जहाँ चाह वहाँ राह (लेख)
6. चिट्ठी का सफ़र (लेख)
7. डाकिए की कहानी, काँवरसिंह की जुबानी (भेंटवार्ता)
8. वे दिन भी क्या दिन थे (विज्ञान कथा)
9. एक माँ की बेबसी (कविता)
10. एक दिन की बादशाहत (कहानी)
11. चावल की रोटियाँ (नाटक)
12. गुरु और चेला (कविता)
13. स्वामी की दादी (कहानी)
14. बाघ आया उस रात (कविता)
15. बिशन की दिलेरी (कहानी)
16. पानी रे पानी (लेख)
17. छोटी-सी हमारी नदी (कविता)
18. चुनौती हिमालय की (यात्रा वर्णन)

कक्षा 5 हिंदी – रिमझिम

कक्षा 5 हिंदी की पाठ्यपुस्तक में कुल 18 अध्याय हैं, जिसमें कहानी, कविताएँ, नाटक, यात्रा वर्णन, लेख आदि सम्मिलित हैं। हर अध्याय रोचकता से भरपूर है तथा बहुत ही सरल भाषा का प्रयोग है। विद्यार्थी हर पाठ का अच्छी तरह अध्ययन करने के बाद, उसके अंत में दिए गए प्रश्नों के उत्तर को स्वं लिखने की कोशिश करें।

कक्षा 5 हिंदी के बारे में

रिमझिम के पाठ आपनी अपनी रंगतें में रीति-रिवाजों के बारे में, जीवन शैली के विभिन्न पहलुओं पर, हुनर तथा विरासत और बोली के बारे में संस्कृति के अनेक आयामों के बारे में दर्शाया गया है। इस पुस्तक में अभिव्यक्ति के विभिन्न माध्यमों की झलक है तथा समय के साथ साथ आए बादलाओं के बारे में भी अवगत कराया गया है।

कक्षा 5 हिंदी में प्रयुक्त विधाएँ

कक्षा 5 हिंदी – रिमझिम में विषयों के साथ-साथ विभिन्न विधाओं की भी झलक है, जो विधा साहित्य के अलग-अलग रूपों को दर्शाता है। रिमझिम – 5 में उपन्यास अंक, खबर, सूचनापरक लेख, शिकार कथा, भेंटवार्ता, यात्रा वर्णन तथा विज्ञान कथा आदि का संक्षिप्त वर्णन है।

कक्षा 5 हिंदी रिमझिम के रचनाकार

कक्षा 5 हिंदी रिमझिम में जिन साहित्यकारों की रचनाएँ ली गई हैं, उनमें से प्रेमचंद, रवींद्रनाथ ठाकुर, नागार्जुन, सुभद्रा कुमारी चौहान, आर के नारायण तथा सोहनलाल द्विवेदी प्रमुख हैं। अध्यायों में सहज भाषा का प्रयोग किया गया है। लगभग प्रत्येक अध्याय में प्रसंगों को आकर्षक चित्रों से दर्शाया गया है। जो रचनाएँ तारांकित हैं, वो सिर्फ पढने के लिए दी गई हैं। इन पाठों से प्रश्न नहीं पूछें जाएंगें।