NCERT Solutions for Class 7 Hindi Grammar

Class 7 Hindi Grammar (Vyakaran) for academic session 2020-2021 following CBSE, UP board, MP Board, Gujrat, Rajasthan, etc. All the chapters are given here with complete explanation and examples.

Class 6 Hindi Vyakaran contains useful tips for preparing school exams and terminal tests.

कक्षा 7 के लिए हिन्दी व्याकरण – सत्र 2020-2021

कक्षा: 7हिन्दी व्याकरण
अध्ययन सामाग्री:CBSE और State Boards

कक्षा 7 हिन्दी व्याकरण के सभी पाठ निम्नलिखित है:




भाषा से आप क्या समझते हो?

भाषा मानव-मुख से उच्चारित ध्वनि प्रतीकों की ऐसी व्यवस्था है, जिसमें शब्दों के अर्थ रूढ़ होते हैं। यह एक साधन है, जिसके द्वारा मानव अपने भावों-विचारों का आदान-प्रदान करता है। भाषा शब्द की उत्पत्ति भाष् धातु से हुई है, जिसका अर्थ है वाणी। संकेतों के द्वारा भी वाणी का यह कार्य अल्पमात्रा में हो सकता है, पर उसमें पूर्णता एवं स्पष्टता नहीं होती।

वर्णमाला किसे कहते हैं?

वर्णों के क्रमबद्ध समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी वर्णमाला में कुल 48 वर्ण हैं। वर्णमाला के व्यंजन-वर्गों में हलंत का चिह्न लगाया गया है। हलंत चिह्न लगाने से व्यंजन के स्वरहीन होने का संकेत मिलता है। शुद्ध बनाए रखने के लिए हिंदी की वर्णमाला में व्यंजन के साथ हलंत चिह्न लगाना चाहिए।

शब्दों के भेद

शब्दों का वर्गीकरण निम्नलिखित चार प्रकार से किया जाता है:

    • 1. अर्थ की दृष्टि से
    • 2. व्युत्पत्ति या रचना की दृष्टि से
    • 3. उत्पत्ति की दृष्टि से और
    • 4. रूपांतर की दृष्टि से
संज्ञा के भेद

संज्ञा के निम्नलिखित तीन भेद हैं:

    1. व्यक्तिवाचक
    2. जातिवाचक
    3. भाववाचक संज्ञा
सर्वनाम के भेद

सर्वनाम के निम्नलिखित छह भेद होते हैं-

    • 1. पुरुषवाचक सर्वनाम
    • 2. निश्चयवाचक सर्वनाम
    • 3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
    • 4. प्रश्नवाचक सर्वनाम
    • 5. संबंधवाचक सर्वनाम
    • 6. निजवाचक सर्वनाम
विशेषण के भेद

विशेषण के चार मुख्य भेद हैं:

    1. संख्यावाचक विशेषण
    2. परिमाणवाचक विशेषण
    3. गुणवाचक विशेषण
    4. सार्वनामिक विशेषण



एकवचन
शब्द के जिस रूप से एक ही वस्तु या प्राणी का बोध हो, उसे एकवचन कहते हैं। जैसे- माला, पुस्तक, कुत्ता, कपड़ा, बिल्ली आदि।
बहुवचन
शब्द के जिस रूप से अनेक वस्तुओं या प्राणियों का बोध हो, उसे बहुवचन कहते हैं। जैसे- मालाएँ, पुस्तकें, कुत्ते, कपड़े, बिल्लियाँ आदि।