Class 7 Hindi Grammar Chapter 26 पदबंध

Class 7 Hindi Grammar Chapter 26 पदबंध (Padbandh). Learn here the use of Pad and Padbandh in Class 7 Hindi Vyakaran updated for academic session 2020-2021 CBSE and State boards.

Practice here with the examples of Padbandh to be confident during the school tests and terminal exams. It is helpful for CBSE students and all state boards students.

कक्षा 7 हिन्दी व्याकरण पाठ 26 पदबंध

कक्षा: 7हिन्दी व्याकरण
अध्याय: 26पद और पदबंध

पदबंध किसे कहते है?

जब एक से अधिक पद एक साथ मिलकर या बँधकर एक व्याकरणिक इकाई (जैसे संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, अव्यय) का काम करते हैं, तब उस इकाई को पदबंध कहते हैं। निम्नलिखित वाक्यों पर ध्यान दीजिए:

    1. दर्जी कपड़े सी रहा है।
      इस वाक्य में दर्जी (संज्ञा) कर्ता का, कपड़े (संज्ञा) कर्म का तथा ‘सी रहा है’ पद क्रिया का भी काम कर रहे हैं।
    2. रमा माता जी के लिए साड़ी लाई।
      इस वाक्य में रमा (संज्ञा) कर्ता का, माता जी (संज्ञा) संप्रदान का, साड़ी (संज्ञा) कर्म का तथा लाई क्रिया का काम कर रहे हैं।




अब इन वाक्यों को निम्नलिखित रूप में पढ़कर देखिए तथा रंगीन पदों पर ध्यान दीजिए:

    • 1. चतुर दर्जी कपड़े सी रहा है।
      तुम्हारा चतुर दर्जी कपड़े सी रहा है।
      तुम्हारे घर के पास रहने वाला चतुर दर्जी कपड़े सी रहा है।
    • 2. रमा माता जी के लिए बनारसी साड़ी लाई।
      रमा माता जी के लिए जरी की बनारसी साडी लाई।
      रमा माता जी के लिए फिरोजी रंग की जरी की बनारसी साड़ी लाई।

इन वाक्यों से स्पष्ट है कि यहाँ कर्ता एक पद न होकर-चतुर दर्जी, तुम्हारा चतुर दर्जी, तुम्हारे घर के पास रहने वाला चतुर दर्जी एक से अधिक पद हैं। इसी प्रकार दूसरे वाक्य में कर्म भी एक पद न होकर बनारसी साड़ी, जरी की बनारसी साड़ी तथा फिरोजी रंग की बनारसी साड़ी-एक से अधिक पद हैं। अर्थात् यहाँ एक से अधिक पद एकसाथ मिलकर एक व्याकरणिक इकाई का काम कर रहे हैं।

पद और पदबंध का अंतर

वाक्य में प्रयोग किए गए शब्द का अनुशासित और व्यावहारिक रूप पद कहलाता है, परंतु जब एक से अधिक पद किसी व्याकरणिक इकाई का काम करते हैं, तब पदों के उस समूह को पदबंध कहते हैं। जैसे:
कपड़े सी रहा है। श्रीलंका से आए खिलाड़ी पद-समूह है। यह मिलकर एक व्याकरणिक इकाई (संज्ञा) कर्ता का कार्य कर रहा है, अतः यह पदबंध है।

पदबंध मुख्य रूप से पाँच प्रकार के होते हैं:

1. संज्ञा-पदबंध

वाक्य में संज्ञा का काम करने वाले पदबंध को संज्ञा-पदबंध कहते हैं।
जैसे:

    • (क) परिश्रम करने वाला छात्र परीक्षा में उत्तीर्ण होगा।
    • (ख) मनोज ने गरम कपड़े की कमीज सिलवाई है।
    • (ग) हमारे मकान में रहने वाला किराएदार कमरा खाली करके चला गया।




2. सर्वनाम-पदबंध

एक से अधिक पद मिलकर जब सर्वनाम का काम करते हैं तब वे सर्वनाम पदबंध कहलाते हैं।
जैसे:

    • (क) इतने लोगों से घिरा हुआ मैं चकित खड़ा था।
    • (ख) कठोर परिश्रम करने वाले तुम अवश्य उन्नति करोगे।
    • (ग) ऊपर के कमरे में रहने वाले वे चले गए हैं।
3. विशेषण-पदबंध

जब अनेक पद एकसाथ मिलकर किसी संज्ञा या सर्वनाम पद की विशेषता बतलाते हैं, तब उन्हें विशेषण-पदबंध कहते हैं।
जैसे:

    • (क) शेर की तरह दहाड़ने वाले तुम अब चुप क्यों हो ?
    • (ख) उस कोने में बैठे हुए लड़के ने मुझे कल मारा था।
    • (ग) बराबर के कमरे में रहने वाली वीणा अभी तक नहीं उठी है।
जब अनेक पद एकसाथ मिलकर किसी संज्ञा या सर्वनाम पद की विशेषता बतलाते हैं, तब उन्हें विशेषण-पदबंध कहते हैं। जैसे: (क) शेर की तरह दहाड़ने वाले तुम अब चुप क्यों हो ? (ख) उस कोने में बैठे हुए लड़के ने मुझे कल मारा था। (ग) बराबर के कमरे में रहने वाली वीणा अभी तक नहीं उठी है।

जब एक से अधिक क्रियापद एकसाथ मिलकर एक समूह बनाते हैं, तब उसे क्रिया-पदबंध कहते हैं। वास्तव में सह मुख्य क्रिया तथा उसकी सहायक, पूर्वकालिक क्रियाओं से मिलकर बना रूप ही होता है।
जैसे:

    • (क) वह खाना खाकर सो गया है।
    • (ख) हम खा-पी चुके हैं।
    • (ग) बरतन जमीन पर गिरकर टूट गया।
5. क्रिया-विशेषण पदबंध

जब वाक्य में अनेक पद एकसाथ मिलकर क्रिया-विशेषण का काम करते हैं, तब वे क्रिया-विशेषण पदबंध कहलाते हैं।
जैसे:

    • (क) वे धीरे-धीरे चल रहे थे।
    • (ख) स्टेडियम के चारों ओर रोशनी थी।
    • (ग) कल पंजाब एक्सप्रेस पाँच बजकर बीस मिनट पर आएगी।



विशेष

पदबंध का अंतिम शब्द जो व्याकरणिक इकाई होता है, प्रायः वह पदबंध उसी इकाई के नाम से जाना जाता है। अर्थात् यदि अंतिम पद संज्ञा है, तो वह पदबंध संज्ञा होगा और यदि सर्वनाम या विशेषण है, तो सर्वनाम या विशेषण पदबंध होगा।

Class 7 Hindi Grammar Chapter 26 पदबंध
पदबंध