NCERT Solutions for Class 6 Hindi Grammar

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Grammar all chapters for academic session 2020-2021. Contents related to grammar for 6th standard are given separately chapter wise. Examples and explanation of each topic is done in simple language, so that a student of grade 6 understand easily.

If someone is facing to access the contents on Tiwari Academy website, please contact us for help. We are here to help you without any charge.

कक्षा 6 के लिए हिन्दी व्याकरण

कक्षा: 6हिन्दी
सामाग्री:हिन्दी व्याकरण

कक्षा 6 के लिए हिन्दी व्याकरण सत्र 2020-2021 के लिए

कक्षा 6 व्याकरण से सभी अध्याय निम्नलिखित हैं:




यहाँ हम हिंदी भाषा, लिपि तथा व्याकरण के बारे विस्तार से अध्ययन करेंगे। इसके अंतर्गत हम वर्ण विचार, स्वर-व्यंजन, संधि तथा उसके भेद, शब्द-विचार, संज्ञा, क्रिया-विशेषण, लिंग, वचन, कारक, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, काल, वाच्य, अनुच्छेद लेखन, अपठित गदयांश, मुहावरे तथा लोकोक्तियाँ, आदि के बारे में पढ़ेंगे। प्रत्येक के बारे में विस्तार से उदाहरण सहित समझाया गया है ताकि विद्यार्थी भलीभाँति इसे समझ सकें।

भाषा व्याकरण

व्याकरण द्वारा भाषा के शुद्ध रूप का ज्ञान होता है। व्याकरण एक शास्त्र है। इसमें भाषा के संबंध में नियम होते हैं। इन नियमों के ज्ञान से भाषा को शुद्ध रूप से लिखना, बोलना आता है। किसी भी भाषा के ज्ञान के लिए उसके व्याकरण का ज्ञान होना आवश्यक है।
इसी आधार पर व्याकरण के तीन विभाग होते हैं:

    • वर्ण-विचार
    • शब्द-विचार
    • वाक्य-विचार

शब्द-विचार
व्याकरण के इस विभाग में शब्दों के स्वरूप, भेद, प्रकार, लिंग, वचन आदि के बारे में विचार किया जाता है।
वाक्य-विचार
इस विभाग में वाक्य, वाक्य-रचना, वाक्य-भेद, विराम-चिह्न आदि के बारे में विचार किया जाता है।




विलोम शब्द

जो शब्द परस्पर विपरीत अर्थ का बोध कराते हैं, विलोम शब्द कहलाते हैं।
जैसे:
जय पराजय,
पाप पुण्य,
दिन रात

सर्वनाम के नियम
    1. सर्वनाम का प्रयोग एकवचन और बहुवचन दोनों में होता है।
    2. सर्वनाम पुल्लिग और स्त्रीलिंग दोनों रूपों में समान रहते हैं।
    3. सर्वनाम शब्दों में संबोधन नहीं होता।
    4. सर्वनामों के रूपों में वचन एवं संबंधकारक के कारण ही परिवर्तन होता है।
सार्वनामिक विशेषण

ऐसे सर्वनाम जो संज्ञा से पहले उसकी विशेषता बताते हैं, उन्हें सार्वनामिक विशेषण कहते हैं। जैसे:
वह मेरा घर है। कोई नहीं रुकेगा। कौन लोग आए थे?
इन वाक्यों में “वह”, “कोई”, और “कौन” सर्वनाम क्रमशः “घर”, “खिलाड़ी” और “लोग” संज्ञाओं की विशेषता बताने के कारण विशेषण हो गए हैं। सार्वनामिक विशेषण को संकेतवाचक विशेषण भी कहते हैं।



कक्षा 6 हिन्दी व्याकरण के आधार पर वर्ण-विचार को समझाइए?

व्याकरण के इस विभाग में वर्गों के स्वरूप, भेद, प्रकार आदि के बारे में विचार किया जाता है।

एकार्थी शब्द किसे कहते हैं?

जिन शब्दों का केवल एक ही अर्थ होता है, एकार्थी शब्द कहलाते हैं। व्यक्तिवाचक संज्ञा के शब्द इसी कोटि के शब्द हैं; जैसे- गंगा, दिल्ली, जर्मन, राधा, मार्च आदि।

अनेकार्थी शब्दों से आप क्या समझते हैं?

जिन शब्दों के एक से अधिक अर्थ होते हैं, वे अनेकार्थी शब्द कहलाते हैं। जैसे कर – हाथ, टैक्स, तीर – किनारा, बाण। अंक – नाटक का अंक, गोद, संख्या पद – स्थान, अधिकार, शब्द।

लिपि से क्या तात्पर्य है?

किसी क्षेत्र में प्रयोग किया जाने वाला भाषा का स्थानीय रूप बोली कहा जाता है। भाषा के लिखित रूप का आधार उस भाषा की लिपि होती है।