Class 7 Hindi Grammar Chapter 6 संज्ञा

Class 7 Hindi Grammar Chapter 6 संज्ञा (Sangya). Know more about Sangya aur Sangya ke bhed which are updated for academic session 2020-2021 State board and CBSE Board students.

Contents are free to use without any login or registration. Practice here संज्ञा with suitable definition and examples to score better in school tests and terminal exams.

कक्षा 7 हिन्दी व्याकरण पाठ 6 संज्ञा

कक्षा: 7हिन्दी व्याकरण
अध्याय: 6संज्ञा और संज्ञा के भेद

संज्ञा किसे कहते हैं?

किसी वस्तु, स्थान, प्राणी या भाव के नाम का बोध कराने वाले शब्द संज्ञा कहलाते हैं। निम्नलिखित वाक्यों को ध्यान से पढ़िए:
1. सोनम कपड़े धोती है।
2. बच्चों को आम अच्छा लगता है।
3. भारत की राजधानी दिल्ली में अनेक दर्शनीय स्थल हैं।
4. श्री लाल जी अपने बुढ़ापे से दु:खी हैं।
5. फूलों की सुगंध मन को अच्छी लगती है।
इन वाक्यों में हमें भिन्न-भिन्न नाम मिलते हैं। सोनम, बच्चा, श्री लाल प्राणियों के नाम हैं। कपड़े, आम वस्तुओं के नाम हैं। भारत, राजधानी, दिल्ली स्थानों के नाम हैं। बुढ़ापे, सुगंध गुणों / भावों के नाम हैं। ये सभी नाम हैं।
संज्ञा के भेद
संज्ञा के निम्नलिखित तीन भेद हैं:

    • 1. व्यक्तिवाचक
    • 2. जातिवाचक
    • 3. व्यक्तिवाचक संज्ञा




व्यक्तिवाचक संज्ञा

जिन संज्ञा शब्दों से किसी विशेष वस्तु, स्थान या प्राणी का बोध होता है, वे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहलाते हैं । जैसे:

    • (क) श्री राम, महात्मा गाँधी, कार्ल मार्क्स, कृष्ण-विशेष व्यक्तियों का बोध कराते हैं।
    • (ख) गीता, कुरान, गुरु ग्रंथ साहिब, बाइबल-विशेष ग्रंथों का बोध कराते हैं।
    • (ग) दिल्ली, मुंबई, आगरा, कानपुर-विशेष स्थानों का बोध कराते हैं।

इनके अतिरिक्त दिशा, दिन, देश, पर्वत, नदी, महीने तथा त्योहार आदि के नाम भी व्यक्तिवाचक संज्ञा होते हैं।

जातिवाचक संज्ञा

जिन संज्ञा शब्दों से किसी वर्ग या जाति का बोध होता है, वे जातिवाचक संज्ञा कहलाते हैं। जैसे: मेज़, घड़ी आदि। जातिवाचक संज्ञा में प्राय: निम्नलिखित की गणना की जाती है, पशु-पक्षियों के नाम- घोड़ा, शेर, मोर, कौआ आदि। फल, फूलों तथा सब्जियों के नाम- जामुन, सेब, केला, गुलाब, आलू, टमाटर आदि।

भाववाचक

भाववाचक संज्ञा जिन शब्दों से पदार्थों के गुण, धर्म, दोष, अवस्था, विभिन्न व्यवहार आदि का बोध होता है, वे भाववाचक संज्ञा कहलाते हैं। जैसे: घड़ी, पुस्तक, मेज आदि। स्थानों के नाम- स्कूल, घर, कमरा, अस्पताल, बाग आदि। व्यक्तियों के नाम- माता, बालक, बहन, पिता आदि। व्यावसायिक नाम- वकील, डॉक्टर, अध्यापक आदि। धातुओं के नाम एवं खनिजों के नाम- सोना, चाँदी, पीतल आदि। प्राकृतिक तत्वों के नाम- वर्षा, आँधी, धूप आदि। 3. प्रेम, मित्रता, शत्रुता आदि। अमूर्त भाव- मिठास, खटास आदि। अवस्था, बचपन, यौवन, बुढ़ापा आदि। क्रिया का व्यापार – सजावट, लेख, पढ़ाई आदि।

अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव से कुछ विद्वान संज्ञा के दो भेद और मानते हैं:

    1. समुदायवाचक संज्ञा
    2. द्रव्यवाचक संज्ञा
समुदायवाचक संज्ञा

इसे समूहवाचक संज्ञा भी कहते हैं। जो संज्ञा शब्द किसी समुदाय या समूह का बोध कराते हैं वे समुदायवाचक संज्ञा कहलाते हैं। जैसे: सेना, भीड़, झुंड, कक्षा, परिवार आदि।

द्रव्यवाचक संज्ञा

किसी पदार्थ या द्रव्य का बोध कराने वाले शब्दों को द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे: पीतल, लोहा, स्टील, सोना, लकड़ी आदि। विशेषः द्रव्यवाची संज्ञा शब्दों का प्रयोग एकवचन में ही होता है क्योंकि ये शब्द गणनीय नहीं हैं ।
समूहवाची या समुदायवाची शब्दों का प्रयोग भी एकवचन में ही होता है क्योंकि ये एक ही जाति के सदस्यों के समूह को एक इकाई के रूप में व्यक्त करते हैं।




भाववाचक संज्ञा

शब्दों का प्रयोग एकवचन में होता है किंतु जब कभी भाववाचक संज्ञा शब्द बहुवचन में प्रयोग होते हैं तब वे जातिवाचक संज्ञा कहलाते हैं। जैसे- बुराई से बुराइयाँ दूरी से दूरियाँ ऊँचाई से ऊँचाइयाँ भाववाचक संज्ञाओं का निर्माण हिंदी में मूल भाववाचक संज्ञाओं की संख्या बहुत कम है। सत्य, सुख, दुःख, ठंड, गरमी, जन्म-मरण आदि मूल रूप से भाववाचक संज्ञाएँ हैं। अन्य शब्दों से मिलकर बनने वाली भाववाचक संज्ञाओं की संख्या अधिक है। भाववाचक संज्ञाएँ प्रायः जातिवाचक संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा क्रिया शब्दों में ता, ई, पन, वट आदि प्रत्ययों के योग से बनती हैं। जैसे: नारीत्व, शत्रुता, सज्जनता, तरुणाई, हैवानियत, कैशोर्य, मजदूरी, पांडित्य, वकालत, पौरुष आदि।

संज्ञा शब्द परिवर्तन

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा
जातिवाचक संज्ञाभाववाचक संज्ञा
देवदेवत्व
बच्चाबचपन
तपस्वी तप
डाकूडकैती
कविकवित्व
आदमीआदमीयत
मातामातृत्व
सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा
सर्वनामभाववाचक संज्ञा
अहंअहंकार
निजअपना
ममममता
स्वस्वत्व
परायापरायापन
विशेषण से भाववाचक संज्ञा
विशेषणभाववाचक संज्ञा
सरलसरलता
सभ्यसभ्यता
हिंसकहिंसा
निर्धननिर्धनता
शांतशांति
सुदरसुंदरता
अव्ययों से भाववाचक संज्ञा बनाना

ऊपर – नीचे – निचाई
शीघ्र – शीघ्रता

क्रिया से भाववाचक संज्ञा
क्रिया भाववाचक संज्ञा
बसनाबसेरा
रोनारुलाई
बोनाबुवाई
जीतनाजीत
घबरानाघबराहट
जगनाजागरण



स्मरणीय तथ्य

    • जो शब्द किसी व्यक्ति, स्थान वस्तु, विचार या भाव का बोध करातें हैं, उन्हें संज्ञा शब्द कहते हैं।
    • जिस संज्ञा शब्द से किसी एक विशेष व्यक्ति, स्थान या वस्तु के नाम हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं।
    • जिस संज्ञा शब्द से किसी वर्ग के सभी प्राणियों, वस्तुओं का बोध हो, उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।
    • जिस संज्ञा शब्द से किसी भाव, गुण, अवस्था, व्यापार आदि का बोध होता है, उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।
Class 7 Hindi Grammar Chapter 6 संज्ञा
संज्ञा Sangya ke bhed
Class 7 Hindi Grammar Chapter 6
sangya ke bhed