Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि

Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि (Sandhi). These contests of Hindi Vyakaran are prepared not only for CBSE Board but the state boards also and updated for session 2021-2022.

Students will get here various examples of संधि and Sandhi ke bhed with complete explanation. Examples are prepared for class 8 standard in easy to understand format. Contents are free to use or download without any login or password.




कक्षा 8 हिन्दी व्याकरण पाठ 15 संधि

कक्षा: 8 हिन्दी व्याकरण
अध्याय: 15 संधि और संधि के प्रकार

संधि किसे कहते हैं?

सामान्य रूप में संधि का अर्थ ‘मेल’ होता है। व्याकरण में इसका अर्थ दो वर्णों के मेल से उत्पन्न विकार होता है। दो वर्णों के निकट आने से उनमें ध्वनि-संबंधी मेल उत्पन्न हो जाता है, इसे ही संधि कहते हैं। जैसे:

    • धर्म + अर्थ = धर्मार्थ – यहाँ धर्म के अंत में “अ” और अर्थ के आरंभ में “अ” है। दोनों को मिलाकर “आ” हो गया। “अ” तथा “अ” दोनों वर्ण स्वर है।
    • परमानंद = परम + आनंद – “परम” और “आनंद” शब्दों से मिलकर “परमानंद” शब्द बना है। “परम” शब्द के अंत (व्+अ) का “अ” और आनंद शब्द का “आ” मिले हैं और “आ” बना है। इस प्रकार परम + आनंद = परमानंद बना है।
    • शिवालय = शिव + आलय – “शिव” और ‘”आलय” शब्दों से मिलकर “शिवालय” शब्द बना है। शिव शब्द के अंत (व्+अ) का “अ” और आलय शब्द “का” ‘आ’ मिले हैं और “आ’ बना है। इस प्रकार शिव + आलय = शिवालय बना है।




संधि के द्वारा बने शब्दों को अलग-अलग करना संधि-विच्छेद कहलाता है।
संधि के भेद संधि के तीन भेद हैं:

    • 1. स्वर संधि
    • 2. व्यंजन संधि
    • 3. विसर्ग संधि

स्वर संधि

दो स्वरों के आपस में मिलने पर जो परिवर्तन होते हैं, उन्हें स्वर संधि कहते हैं।
जैसे:
देव+आलय = देवालय (अ + आ = आ)
पर + उपकार = परोपकार (अ + उ = ओ)

स्वर संधि के भेद

स्वर संधि के पाँच भेद होते हैं:

    • 1. दीर्घ संधि
    • 2. गुण संधि
    • 3. वृद्धि संधि
    • 4. यण संधि
    • 5. अयादि संधि
दीर्घ संधि

हिंदी में स्वर दो प्रकार के होते हैं- ह्रस्व, जैसे- अ, इ, उ, ऋ और दीर्घ जैसे आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ। ह्रस्व या दीर्घ अ, इ, उ परस्पर निकट आ जाएँ तो दोनों के मेल से दीर्घ “आ”, “ई”, “ऊ” हो जाते हैं। इसे दीर्घ संधि कहते हैं।

1. अ + अ = आ
शब्द1 शब्द2 सन्धि शब्द
सूर्य अस्त सूर्यास्त
मत अनुसार मतानुसार
राम अवतार रामावतार
सार अंश सारांश




2. आ + अ = आ
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
विद्या अर्थी विद्यार्थी
यथा अर्थ यथार्थ
शिक्षा अर्थी शिक्षार्थी
परीक्षा अर्थी परीक्षार्थी
3. इ + इ = ई
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
कवि इंद्र कवीन्द्र
अति इव अतीव
हरि इच्छा हरीच्छा
(ख) गुण संधि

जब अ, आ का इ, ई से मेल होता है तो इनके स्थान पर क्रमशः ए हो जाता है उ, ऊ से मेल होने पर ओ तथा अ, आ का ऋ से मेल होने पर अर हो जाता है। तो इसे गुण संधि कहते हैं।

1. अ + इ = ए
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
भारत इंदु भारतेंदु
वीर इंद्र वीरेंद्र
धीर इंद्र धीरेन्द्र
धर्म इंद्र धर्मेंद्र




2. ऊ + ऊ = ऊ
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
वधू उर्जा वधूर्जा
मू ऊर्ध्व मूर्ध्व
3. अ + ई = ए
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
नर ईश नरेश
गण ईश गणेश
सुर ईश सुरेश
दिन ईशदिनेश
(ग) वृद्धि संधि

जब अ, आ के बाद ए, ऐ या ओ, औ स्वर आएँ, तो दोनों के स्थान पर क्रमशः ऐ और औ हो जाते हैं। इस मेल को वृद्धि संधि कहते हैं।

1. अ + ए = ऐ
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
एक एक एकैक
लोक एषण लोकैषण
हित एषी हितैषी




2. अ + ऐ = ऐ
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
मत ऐक्य मतैक्य
अर्थ ऐक्य अथैक्य
परम ऐश्वर्य परर्मेश्वर्य
धन ऐश्वर्य धनैश्वर्य
3. आ + ए = ऐ
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
सदा एव सदैव
यथा एव यथैव
तथा एव तथैव
रमा एव रमैव
(घ) यण संधि

इ, ई, उ, ऊ, या, ऋ के बाद यदि कोई अन्य स्वर आ जाए तो इ, ई का य्, उ, ऊ’ का व् और ऋ का र हो जाता है। स्वरों के इस मेल को यण संधि कहा जाता है।

1. इ + अ = य
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
यदि अपि यद्यपि
अति अधिक अत्यधिक
अति अंत अत्यंत



3. इ + आ = या
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
इति आदि इत्यादि
अभि आगत अभ्यागत
वि आप्त व्याप्त
अति आचार अत्यावश्यक
(ङ) अयादि संधि

जब ए, ऐ, ओ, औ के बाद कोई अन्य स्वर आए तो ए का अय् ऐ को आयु का अन् और औ का आव् हो जाता है। स्वरों के इस मेल को अयाधि संधि कहा जाता है।

1. ए+अ-अय
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
ने अन नयन
चे अन चयन
2. ऐ + अ = आय
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
गै अक गायक
नै अक नायक
गै अन गायन

व्यंजन संधि

किसी व्यंजन का स्वर या व्यंजन से मेल होने पर जो विकार या परिवर्तन होता है, उसे व्यंजन संधि कहते हैं। जैसे-

शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
सत जन सज्जन
जगत् ईश जगदीश
उत् लेख उल्लेख
अनु छेद अनुच्छेद

“क” वर्ग के प्रथम वर्ण का उसी वर्ग के तृतीय वर्ण में परिवर्तन- क्, च्, ट्, त्, प के बाद यदि कोई स्वर या उसी वर्ग का तीसरा या चौथा व्यंजन (गू, घ, ज, झ, ड्, ढ़, द्, घ्, व, म) या (य्, र, ल, व्, ह) में से कोई व्यंजन आएं तो क, का, ‘ग’, च् का ज, ट् को ड और प् का ‘ब’ हो जाता है। जैसे-




क् का ग (क + अ = ग)
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
दिक् अम्बर दिगम्बर
(क + ग = ग्ग)
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
दिक् गज दिग्गज
(क + ग = ग्ग)
शब्द 1 शब्द 2सन्धि शब्द
दिक् अम्बर दिगम्बर
(क + ग = ग्ग)
शब्द 1 शब्द 2सन्धि शब्द
दिक् गज दिग्गज
(क + ई = गी)
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
वाक ईश वागीश

(क + द = ग्)
शब्द 1 शब्द 2 सन्धि शब्द
वाक् दान वाग्दान
Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि
Class 8 Hindi Grammar Chapter 15
संधि
संधि विच्छेद
Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि विच्छेद
Class 8 Hindi Vyakaran Chapter 15 संधि
CBSE Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि
NCERT Solutions for Class 8 Hindi Grammar Chapter 15 संधि
Class 8 Hindi Grammar Sandhi
Sandhi Vichchhed for Class 8 Vyakaran